Home » Phool poem in Hindi | Poem on Flower in Hindi

Phool poem in Hindi | Poem on Flower in Hindi

Phool poem in Hindi

Phool poem in Hindi की इस लेख पर सभी बच्चो का स्वागत है । हम यहाँ आपको 8 अलग अलग Poem on Flower in Hindi बताएँगे जो आप अपने दोस्तों को या फिर आपकी कक्षा में सुना सकते हो ।

ये सभी कवितायेँ बच्चो के लिए है । इसीलिए हमने इसे बहत सरल भाषा में, और बहुत आसानी से लिखा। उम्मीद है आप सभी को ये सारे पोएम अच्छा लगेगा ।

चलिए बच्चो शुरू करते है :

Phool poem in हिंदी – कविता 1

 

रंग बिरंगे प्यारे फूल,

मुस्काते ये न्यारे फूल,

कितना कोमल इनका तन,

खीचें पल में सबका मन,

खुशबु दूर दूर फैलाते,

जो भी देखे उसे लुभाते,

फूलों जैसे तुम बन जाओ,

इस धरती को तुम स्वर्ग बनाओ ।।

रंग बिरंगे प्यारे फूल,

लगते कितने न्यारे फूल,

लाल गुलाबी नीले पिले ,

हरे बेंगाणी रंग रंगीले,

मन को खूब लुभाते फूल,

हासना हमें शिखाते फूल ।।

Poem on Flower in Hindi

 

Hindi Flower Poem : कविता 2 

 

बाग़ में मेरे देखो,

कई तरह की फूल खिले,

लाल नील पिले हरे,

लगते है ये प्यारे,

हरे हरे ये पेड़,

जिन पर लगे फूलों के ढेर,

तोड़ने को मन ललचाये,

पर ये पकड़ में ना आये ।

Hindi poem on flower : कविता 3

 

फूल गुलाब का बड़ा ही प्यारा,

सब फूलों से है ये न्यारा,

लगता कितना ताज़ा ताज़ा,

सब फूलों का है ये राजा,

बड़ा ही कोमल है यह फूल,

तोड़कर इसको करो ना भूल ।।

 

Phool par kavita : कविता 4

 

कितने कोमल, कितने सुन्दर,

कितने प्यारे प्यारे फूल,

गुलाब कमल गेंदा चमेली,

रंग बिरंगे न्यारे फूल,

अपनी मीठी सुगंध फैलाकर,

बगिया को महकाते फूल,

गर्मी सर्दी बारिश सहकर,

दुःख में सदा मुस्काते फूल ।

प्रकृति का बरदान है फूल ,

जन-जन को पास बुलाते है फूल,

मुस्कान बिखरकर अपनी,

धरा को स्वर्ग बनाते फूल ।

चित्त को आनंद देकर ,

जीवन में खुशियां लाते फूल ,

सदा रहो मुस्कुराते यही,

जीवन का पाठ पड़ते फूल ।

 

Phool poem in Hindi : कविता 5

 

चाहे बहे हवा मतवाली,

फूल हमेशा मुस्काता है ,

हहै बहे हवा लू वाली,

फूल हमेशा मुस्काता है ।

पत्तो की गोदी में रहकर,

फूल हमेशा मुस्काता है,

काटों की नोकों को सहकर,

फूल हमेशा मुस्काता है ।

ऊपर रह डाली पर खिलकर,

फूल हमेशा मुस्काता है ,

निचे टपक धुल में मिलकर,

फूल हमेशा मुस्काता है ।

रोना नहीं फूल को आता,

फूल हमेशा मुस्काता है ,

इसीलिए वह सबको भाता,

फूल हमेशा मुस्काता है ।।

Flower poem in Hindi

 

Poem on different flowers in Hindi :

 

Poem on kamal phool : Lotus flower poem in Hindi

 

हम है कमल के फूल,

भारत के राष्ट्रीय फूल ,

पानी में हम तेहरते,

हवा के संग झूमते,

गुलाबी सफ़ेद हमारा रंग,

लम्बा डांठं उसके संग ,

पानी के भीतर जड़े,

ये हमें पकड़ रखे , ये हमें पकड़ रखे ।।

Poem on Chameli phool : Jasmine flower poem in Hindi

 

चमेली का फूल सुगन्धित है,

महक लोगों को मोहित करती है ।

महिलाएं चमेली को ,

बालों में सजाती है ।

फूल पर कविता :

 

फैलाकर अपनी सुगंध,
महकाता तन मन को,
रंग-बिरंगी दुनिया से अपनी,
सजाता उपवन को।

टूट जाये डाली से फिर भी,
न शोक मनाता जीवन में,
बन श्रंगार हर्ष से वह,
नही इठलाता एकपल को।

कभी हृदय की शोभा बनता,
कभी चरणों में शीश नवाता वो,
हर्ष सहित स्वीकार कर दायित्व,
निभाता अपने कर्तव्यों को।

क्षणिक जीवन है फिर भी उसका
व्यर्थ नही गवाता वो।
देकर अपना सर्वस्य वह,
करता सफल लघु जीवन को।

फैलाकर अपनी सुगंध,
महकाता तन मन को,
रंग-बिरंगी दुनिया से अपनी,
सजाता उपवन को।

निष्कर्ष :

मैं आशा करता हु आपको ये सारी Phool poem in Hindi – Poem on Flower in Hindi पसंद आया है। इस पोस्ट को शेयर करना मत भूले और निचे अपना टिपण्णी दे ये कविताये आपको कैसा लगा ।

Disclaimer : Above written poems and short poems are collected copies. We do not have rights to  the poems. All credits go to the respective writers.

और पढ़े :

Poem On Rajput In Hindi | राजपूत कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *