Home » Nelson Mandela Class 10 Summary (English & Hindi) in Detail

Nelson Mandela Class 10 Summary (English & Hindi) in Detail

Nelson Mandela class 10 summary

Hello everyone, this article will provide you with the detailed explanation of the extract in CBSE class 10 book from the autobiography of Nelson Mandela named “Nelson Mandela: Long Walk to Freedom ”.

Chapter Name Nelson Mandela
Class 10
Author Autobiography

Nelson Mandela

Nelson Mandela was the first president of South Africa. He served his country from 1994 to 1999. He was the first black head of the country who was elected. He was a great revolutionist and took a great part in the South African anti-apartheid revolution.  

Nelson Mandela class 10 summary

Before the Inauguration Ceremonies

The part of the autobiography provided to us begins on the date 10th May(As specified by the author). Here the author is talking about some inauguration ceremonies. He says that before it takes place he is surrounded by international leaders. They have come to greet him. He also says that this inauguration will be the largest gathering until then in South Africa. 

The author informs us the ceremonies took place in a huge sandstone hall which was formed by the Union Buildings in Pretoria. The author told us this same place was covered only by the white men, who considered themselves to be supreme. This time every human gathered here ignoring their skin color. It seemed like a rainbow of gathering. The inauguration ceremonies were for the first Democratic, non-racial government of South Africa. 

The Pledge

In the Pledge, Sir Nelson Mandela addresses all those present in the ceremony. Those men who gave the country honour and support. He said that this would be for the first time that all of humanity will be proud together. (There was a long racialistic practice in South Africa for which the Black men didn’t have all constitutional rights. This practice was known as apartheid. Thus a part of society was always neglected.)

He talks about those states who broke diplomatic relations with the nation because of the apartheid. He told that those states have accepted the nation back. (This happened because they found their leader. Nelson Mandala was a part of them.) He thanks every international guest. He thanks them because these people have been a part of such victory. This was the victory for justice, for peace and for human dignity. 

Sir Mandala happily announces that they had finally achieved their political freedom. On behalf of the government he promises that he would make his people free from the burden of poverty. He also promises that he will always give equal right to everyone irrespective of their skin color, caste ,gender or any thing else. He will never let anyone suffer.

He promises that he will never allow anyone in his beautiful land to experience any ill treatment. He prays that the glory of the country shall never come to end. 

He finishes his speech by saying that freedom shall reign .At the end  he exclaims,  “God blesses Africa!”. 

The ceremony after pledge

The author says that after his pledge the military helicopters and troop carriers roared in a perfect formation over the union building. This not only represented their military perfection but also their loyalty towards the government. 

The dignified officers with medals are saluting him. When they do so, the author remembers that those were the same officers who wanted to arrest him one days. 

Sir Mandela says that after this few Impala jets aligned in a ‘V’ shape released smoke. They released the smoke of colors black, red, green, blue and golden forming the South African flag which was newly made.

As the author was the first black head of the state. His government represented equality and justice. Thus to symbolize him the people played two national anthems. The whites sang ‘Nkosi Sikelel -iAfrika’ and black sang ‘Die Stem’.

Among every celebration the author remembers the time which was not far before. The time when the white skinned people dominated over the dark skinned people. The racial government led the country men to exploit each other on the basis of skin color. He said that this led to the creation of the hardest and most inhumane society. 

The author says that only after so many years have they been able to create a government. This government will give equal rights to everyone without considering their skin color. 

Patriotism : Nelson Mandela Class 10 Summary

Sir Mandela says that this day when the new government is finally formed has come with a lot of sacrifices for their people. 

The author felt that the sacrifices made by the revolutionary patriots can’t be repaid. It seemed to him that those men had given him the duty to serve the nation. As if it’s now his turn to serve the nation and start another line of patriots who will serve the nation. He was pained with the thought that he can never thank those men. 

My Grandmother’s House Summary In Hindi & English (Full analysis)

Effect of Apartheid policy

The policy of Apartheid had a huge effect over the country men. He said that the government officials have to spend a lot of years to recover every wound. 

He says that not only did the apartheid policy create a bad impact for the society it has also gave birth to heroes. 

Such heroes will also be an example of courage, wisdom and generosity. They will always be remembered with respect.

Heroes of the nation

The author emphasizes that his country is rich in prosperity and wealth. At the same time he says that the true wealth of the country lies in its men. The characters who set an example for the nation. He compares the heroes of the nation to the diamonds. 

He says that from the struggles of these heroes he has learned the real meaning of courage. He says that watching them risk their lives for the nation has kept him motivated.

Those men have tolerated every unimaginable attack without showing any strength. This shows that keeping patience at times is also very important. 

He says that he has learnt from them that courage is not about having no fear. It is to conquer fear. He said a man is called courageous when he has overcome every fear.

Bharat Is My Home Question Answer And Summary In Hindi

Human Qualities

Sir Nelson Mandela talks about some of the human qualities. He says that no one is born with hatred for anyone. One has to learn to hate. The author says that if one can learn to hate someone, one can also learn to love someone. Love is a natural feeling that comes from within. The white men were taught to hate the black instead they could be taught to love. For love is the most essential feeling of humanity. 

He remembers when his comrades were sent to jail for their movements they met guards who showed some humanity. This little act of humanity made them keep going. Thus, humanity is the only means of betterment.

The author says that every man has a duty towards two things in life. The first one is their family and second is towards the men in the nation. Every human is actually capable of fulfilling these two duties. Our social and personal responsibilities are equally important. We have to give our best in both places. 

Knowing his responsibilities he fought to allow him to accomplish his duties towards the people. As in South Africa the black men were not allowed to do that. If one tried to do so both the society and family isolated that person. He regrets saying that when tried to fulfill his duties towards the people he was not allowed to serve for his family. His duty towards his family was confiscated. 

The author says that it was not an offence that he wanted to be free. Everyone is born free. Everyone has the right to do that he wants to. He says that when he was in his boyhood he considered freedom of playing to be his freedom. As he grew up he understood that he was not free. As Student he wanted freedom  to choose what he wanted to study or to stay out late at night. When he grew to be a young man he wanted to live his lawful life. He was not allowed to that even. He later realized that people around him were also not free. 

The author wanted everyone to be free and thus joined the African National Congress. He started fighting for freedom. 

A House Is Not a Home Class 9 Summary in Hindi & English

Mandela’s hunger for freedom 

The author wanted to see his countrymen free. He wanted his countrymen to live their lives with dignity and self-respect. His desire transformed a frightened young man to a bold and strong man. He turned out to be a criminal as he went against the government. He became homeless and forced to live a monk as his family never supported him.

He says that he didn’t consider being homeless to be a greater sacrifice than what his comrades made. At the same time he lost his poor own little freedom.  

In a nation if a single man is not free means the whole nation is not free. He says that the man who snatches the freedom is equally not free. As the snatching away freedom means that person is in the prison of hatred and narrow mindedness. Both who take away freedom and from whom it is snatched is deprived of humanity. 

 

MCQ : Nelson Mandela Summary

  1. Give a brief idea of Mandela’s pledge. 
  2. What is Apartheid policy?
  3. What did Mandela say about equality?
  4. According to Mandela, what is the real wealth of a Country?
  5. What does the author say about hatred?
  6. What made Mandela  hungry for freedom?
  7. What are two duties we have as a human being?
  8. What is courage?

Nelson Mandela Class 10 Summary in Hindi

 

नेल्सन मंडेला

Nelson Mandela class 10 summary Hindi

नेल्सन मंडेला दक्षिण अफ्रीका के पहले राष्ट्रपति थे। उन्होंने 1994 से 1999 तक अपने देश की सेवा की। वह चुने गए देश के पहले ब्लैक हेड थे। वे एक महान क्रांतिकारी थे और उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद विरोधी क्रांति में एक बड़ा हिस्सा लिया।  

उद्घाटन समारोह से पहले

हमें प्रदान की गई आत्मकथा का हिस्सा 10 मई (जैसा कि लेखक द्वारा निर्दिष्ट किया गया है) से शुरू होता है। यहाँ लेखक कुछ उद्घाटन समारोहों के बारे में बात कर रहे हैं। उनका कहना है कि इसके होने से पहले वे अंतरराष्ट्रीय नेताओं से घिरे हुए हैं। वे उनका अभिवादन करने आए हैं। उनका यह भी कहना है कि यह उद्घाटन दक्षिण अफ्रीका में तब तक की सबसे बड़ी सभा होगी। 

लेखक हमें सूचित करता है कि समारोह एक विशाल बलुआ पत्थर हॉल में हुआ था जिसे प्रिटोरिया में यूनियन बिल्डिंग द्वारा बनाया गया था। लेखक ने हमें बताया कि यह वही स्थान है जो केवल गोरे लोगों से भरा हुआ था, जो खुद को सर्वोच्च मानते थे। इस बार यहां हर इंसान अपनी चमड़ी के रंग को नज़रअंदाज कर इकट्ठा हुआ। यह सभा के इंद्रधनुष की तरह लग रहा था। उद्घाटन समारोह दक्षिण अफ्रीका की पहली लोकतांत्रिक, गैर-नस्लीय सरकार के लिए थे। 

My Mother At Sixty Six Summary In Hindi And English

शपथ

शपथ में , सर नेल्सन मंडेला समारोह में उपस्थित सभी लोगों को संबोधित करते हैं। वे लोग जिन्होंने देश को सम्मान और समर्थन दिया। उन्होंने कहा कि यह पहली बार होगा जब पूरी मानवता को एक साथ गर्व होगा। (दक्षिण अफ्रीका में एक लंबी नस्लीय प्रथा थी जिसके लिए अश्वेत लोगों के पास सभी संवैधानिक अधिकार नहीं थे। इस प्रथा को एपेथीड के रूप में जाना जाता था। इस प्रकार समाज के एक हिस्से की हमेशा उपेक्षा की जाती थी।)

वह उन राज्यों के बारे में बात करता है जिन्होंने देश के प्रति उदासीनता के कारण राजनैतिक संबंध तोड़ दिए थे । उन्होंने बताया कि उन राज्यों ने राष्ट्र को वापस स्वीकार कर लिया है। (ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उन्हें अपना नेता मिल गया। नेल्सन मंडला उनमें से एक थे।) वे हर अंतरराष्ट्रीय अतिथि को धन्यवाद देते हैं। वह उनका धन्यवाद करता है क्योंकि ये लोग ऐसी जीत का हिस्सा रहे हैं। यह न्याय की, शांति की और मानवीय गरिमा की जीत थी। 

सर मंडला खुशी-खुशी घोषणा करते हैं कि उन्होंने आखिरकार अपनी राजनीतिक स्वतंत्रता हासिल कर ली है। सरकार की ओर से वह वादा करते हैं कि वह अपने लोगों को गरीबी के बोझ से मुक्त करेंगे। उन्होंने यह भी वादा किया कि वह हमेशा सभी को समान अधिकार देंगे, चाहे उनकी त्वचा का रंग कुछ भी हो , जाति, लिंग या कुछ और में प्रकारभेद हो ।  वह कभी किसी को पीड़ित नहीं होने देंगे।

वह वादा करता है कि वह अपनी खूबसूरत भूमि में किसी को भी किसी भी दुर्व्यवहार का अनुभव नहीं करने देगा। वह प्रार्थना करता है कि देश की महिमा कभी समाप्त न हो। 

वह यह कहकर अपना भाषण समाप्त करता है कि स्वतंत्रता राज करेगी। अंत में वह कहता है, “भगवान अफ्रीका को आशीर्वाद दे!”। 

प्रतिज्ञा के बाद समारोह

लेखक का कहना है कि उनकी प्रतिज्ञा के बाद सैन्य हेलीकॉप्टर और सैन्य वाहक संघ भवन के ऊपर एक पूर्ण गठन में गर्जना कर रहे थे। यह न केवल उनकी सैन्य पूर्णता का प्रतिनिधित्व करता था बल्कि सरकार के प्रति उनकी वफादारी का भी प्रतिनिधित्व करता था। 

पदक के साथ सम्मानित अधिकारी उन्हें सलाम कर रहे हैं। जब वे ऐसा करते हैं, तो लेखक को याद आता है कि वे वही अधिकारी थे जो उन्हें एक दिन गिरफ्तार करना चाहते थे। 

सर मंडेला का कहना है कि इसके बाद ‘वी’ आकार में संरेखित कुछ इम्पाला जेट्स ने धुआं छोड़ा। उन्होंने काले, लाल, हरे, नीले और सुनहरे रंगों के धुएं को छोड़ दिया, जिससे दक्षिण अफ्रीका का झंडा बना जो नव निर्मित था।

चूंकि लेखक राज्य के पहले ब्लैक हेड थे। उनकी सरकार समानता और न्याय का प्रतिनिधित्व करती थी। इस प्रकार लोगों ने उनके प्रतीक के रूप में दो राष्ट्रगान बजाए। गोरों ने ‘नकोसी सिकेलेल-आईअफ्रिका’ गाया और काले ने ‘डाई स्टेम’ गाया।

प्रत्येक उत्सव के बीच लेखक उस समय को याद करता है जो बहुत पहले नहीं था। एक जमाना था जब गोरे रंग के लोग सांवले रंग के लोगों पर हावी थे। नस्लीय सरकार ने देश के इंसानो को त्वचा के रंग के आधार पर एक दूसरे का शोषण करने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि इससे सबसे कठोर और सबसे अमानवीय समाज का निर्माण हुआ। 

लेखक का कहना है कि इतने साल बाद ही वे सरकार बना पाए हैं। यह सरकार बिना उनकी त्वचा के रंग पर विचार किए सभी को समान अधिकार देगी। 

देशभक्ति

सर मंडेला का कहना है कि यह दिन जब आखिरकार नई सरकार बनी है, वह अपने लोगों के लिए बहुत सारे बलिदान लेकर आया है। 

लेखक ने महसूस किया कि क्रांतिकारी देशभक्तों द्वारा किए गए बलिदानों को चुकाया नहीं जा सकता। उसे लगा कि उन लोगों ने उसे राष्ट्र की सेवा करने का कर्तव्य दिया है। मानो अब देश की सेवा करने और देश की सेवा करने वाले देशभक्तों की एक और लाइन शुरू करने की उनकी बारी है। वह इस सोच से दुखी था कि वह उन आदमियों को कभी धन्यवाद नहीं दे सकता। 

रंगभेद नीति का प्रभाव 

देश के पुरुषों पर रंगभेद की नीति का बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा। उन्होंने कहा कि सरकारी अधिकारियों को हर घाव को भरने में काफी साल खर्च करने पड़ेगा. 

उनका कहना है कि रंगभेद की नीति ने न केवल समाज पर बुरा प्रभाव डाला बल्कि नायकों को भी जन्म दिया। 

ऐसे वीर जो साहस, बुद्धि और उदारता की मिसाल होंगे। उन्हें हमेशा सम्मान के साथ याद किया जाएगा।

A Triumph Of Surgery Summary (Hindi & English) Class10

राष्ट्र के नायक

लेखक इस बात पर जोर देते हैं कि उनका देश समृद्धि और धन से समृद्ध है। साथ ही उनका कहना है कि देश की असली संपत्ति उसके आदमियों में है। देश के लिए मिसाल पेश करने वाले किरदार। वह देश के नायकों की तुलना हीरे से करते हैं। 

उनका कहना है कि इन वीरों के संघर्षों से उन्होंने साहस का वास्तविक अर्थ सीखा है। उनका कहना है कि उन्हें राष्ट्र के लिए अपनी जान जोखिम में डालते हुए देखना उन्हें प्रेरित करता रहा है।

उन आदमियों ने बिना कोई ताकत दिखाए हर अकल्पनीय हमले को सहन किया है। इससे पता चलता है कि समय-समय पर धैर्य रखना भी बहुत जरूरी है। 

वह कहता है कि उसने उनसे सीखा है कि साहस का मतलब डर न होना नहीं है, भय पर विजय पाना है। उन्होंने कहा कि एक आदमी साहसी कहलाता है जब वह हर डर पर विजय प्राप्त कर लेता है।

मानवीय गुण

सर नेल्सन मंडेला कुछ मानवीय गुणों के बारे में बात करते हैं। उनका कहना है कि कोई भी किसी के प्रति घृणा के साथ पैदा नहीं होता है। नफरत करना सीखना होगा। लेखक का कहना है कि यदि कोई किसी से घृणा करना सीख सकता है, तो वह किसी से प्रेम करना भी सीख सकता है। प्यार एक प्राकृतिक एहसास है जो भीतर से आता है। गोरे लोगों को काले लोगों से नफरत करना सिखाया गया था, इसके बजाय उन्हें प्यार करना सिखाया जा सकता था। प्यार मानवता की सबसे जरूरी भावना है। 

उन्हें याद है कि जब उनके साथियों को उनकी गतिविधियों के लिए जेल भेजा गया था, तो वे उन गार्डों से मिले थे जिन्होंने कुछ मानवता दिखाई थी। मानवता के इस छोटे से कार्य ने उन्हें आगे बढ़ते रहने के लिए प्रेरित किया। इस प्रकार, मानवता ही बेहतरी का एकमात्र साधन है।

लेखक का कहना है कि जीवन में दो चीजों के प्रति प्रत्येक व्यक्ति का कर्तव्य है। पहला उनका परिवार है और दूसरा राष्ट्र के इंसानो के प्रति है। प्रत्येक मनुष्य वास्तव में इन दो कर्तव्यों को पूरा करने में सक्षम है। हमारी सामाजिक और व्यक्तिगत जिम्मेदारियां समान रूप से महत्वपूर्ण हैं। हमें दोनों जगह अपना सर्वश्रेष्ठ देना होगा। 

अपनी जिम्मेदारियों को जानते हुए उन्होंने लोगों के प्रति अपने कर्तव्यों को पूरा करने की अनुमति देने के लिए संघर्ष किया। जैसा कि दक्षिण अफ्रीका में अश्वेत लोगों को ऐसा करने की अनुमति नहीं थी। अगर किसी ने ऐसा करने की कोशिश की तो समाज और परिवार दोनों ने उस व्यक्ति को अलग-थलग कर देते थे। उन्हें यह कहते हुए खेद है कि जब लोगों के प्रति अपने कर्तव्यों को पूरा करने की कोशिश की गई तो उन्हें अपने परिवार की सेवा करने की अनुमति नहीं दी गई। उनके परिवार के प्रति उनके कर्तव्य को जब्त कर लिया गया था। 

लेखक का कहना है कि यह कोई अपराध नहीं था कि वह स्वतंत्र होना चाहता था। हर कोई स्वतंत्र पैदा होता है। हर किसी को वह करने का अधिकार है जो वह चाहता है। उनका कहना है कि जब वे बचपन में थे तो खेलने की आजादी को अपनी आजादी मानते थे। जैसे-जैसे वह बड़ा हुआ वह समझ गया कि वह स्वतंत्र नहीं है। विद्यार्थी के रूप में वह यह चुनने की स्वतंत्रता चाहता था कि वह क्या पढ़ना चाहता है या देर रात तक बाहर रहना चाहता है। जब वह जवान हुआ तो वह अपना वैध जीवन जीना चाहता था। उसे इसकी अनुमति भी नहीं थी। बाद में उन्होंने महसूस किया कि उनके आसपास के लोग भी स्वतंत्र नहीं थे। 

लेखक चाहता था कि हर कोई स्वतंत्र हो और इस तरह अफ्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस में शामिल हो गया। उन्होंने आजादी की लड़ाई शुरू कर दी।

Journey To The End Of The Earth Summary in Hindi

मंडेला की आजादी की भूख 

लेखक अपने देशवासियों को आजाद देखना चाहते थे। वह चाहते थे कि उनके देशवासी अपना जीवन गरिमा और स्वाभिमान के साथ जिएं। उसकी इच्छा ने एक भयभीत युवक को एक साहसी और मजबूत आदमी में बदल दिया। सरकार के खिलाफ जाते ही वह एक अपराधी निकला। वह बेघर हो गया और एक साधु के जीवन जीने के लिए मजबूर हो गया।

उनका कहना है कि उन्होंने बेघर होने को अपने साथियों द्वारा किए गए बलिदान से बड़ा बलिदान नहीं माना। उसी समय उसने अपनी गरीब अपनी छोटी सी आजादी खो दी।  

एक राष्ट्र में यदि एक भी व्यक्ति स्वतंत्र नहीं है तो पूरा राष्ट्र स्वतंत्र नहीं है। उनका कहना है कि जो व्यक्ति स्वतंत्रता को छीन लेता है वह समान रूप से स्वतंत्र नहीं होता। जिस प्रकार स्वतंत्रता छिनने का अर्थ है वह व्यक्ति घृणा और संकीर्णता के कारागार में है। जो स्वतंत्रता छीन लेता है और जिससे वह छीन ली जाती है, दोनों ही मानवता से वंचित हो जाते हैं।

1 thought on “Nelson Mandela Class 10 Summary (English & Hindi) in Detail”

  1. Pingback: The Thief Story (Class 10 Summary in Hindi) - Mr Shekhar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *