Home » My Mother At Sixty Six Summary In Hindi And English

My Mother At Sixty Six Summary In Hindi And English

My Mother At Sixty Six Summary

नमस्कार सुंदर लोगों, यह लेख आपको कमला दास की कविता “My mother at sixty-six summary” बिस्तार मे प्रदान करेगा। 

My Mother At Sixty Six Summary In Hindi

काबियित्री : कमला दास

कमला दास का जन्म 31 मार्च, 1934 को हुआ था। वह एक मलयालम लेखिका और एक अंग्रेजी कवियत्री थीं। कमला दास ने मुख्य रूप से अपने निजी जीवन के बारे में लिखा। उनकी रचनाएँ तीव्र भावनाओं से भरी हैं। कवयित्री के लेखन में आंतरिक भावनाओं को साहसपूर्वक व्यक्त किया गया है।  

परिचय

“My mother at sixty-six” कविता माँ-बेटी के रिश्ते को दर्शाती है। यहां कवयित्री मां को खोने के विचार में अपने अंदर आए कष्ट को स्पष्ट करती है। वह कविता में मानव जीवन के संकुचन को भी दर्शाती है। जब कवयित्री अपनी माँ को विदा करती है तो वह अपना सारा दर्द अपने भीतर छुपा लेती है। 

नाजुक चेहरा 

कवयित्री ने अपनी माँ के चेहरे का विशद वर्णन किया है।

 जब वह कोचीन में अपने माता-पिता के घर से लौट रही थी, तो उसकी मां गाड़ी में उसके साथ थी। 

 उसने अपनी माँ के चेहरे को ध्यान से देखा। बुढ़िया मुंह खोलकर झपकी ले रही थी। उसका चेहरा एक लाश जैसा लग रहा था और दर्द से भरा हुआ था। 

कमला इस बात को समझ चुकी थी कि उसकी मां बूढ़ी हो चुकी है। उसने महसूस किया कि बढ़ती उम्र उसकी माँ को उससे दूर ले जा सकती है। कवयित्री समझ गई कि उसकी माँ जीवन और मृत्यु के चक्र से बाहर नहीं थी। अपनी माँ को स्थायी रूप से खोने के विचार से वह दुखी थी। 

कमला अपनी माँ के पीले और ठंडे चेहरे को देखकर उदास हो गई।  

विरोधाभासी छवि : My Mother At Sixty Six Summary

कवयित्री ने अपना मन बदलने के लिए खिड़की से बाहर देखा। उसने देखा कि युवा पेड़ बहुत ऊर्जा के साथ दौड़ रहे हैं। मौज-मस्ती कर्ते हुये वाले बच्चे अपने घरों से खेलने के लिए निकल रहे थे। 

उसके आस-पास की ये बातें उसकी माँ के चेहरे के विपरीत सकारात्मकता का संकेत देती थीं। युवा पेड़ और बच्चे युवा ऊर्जा का प्रतीक हैं। उसकी माँ के रूप के विपरीत, बाहरी दुनिया बहुत अधिक रंगीन है। 

कमला को पता चलता है कि कोई भी इन्सान हमेशा के लिए यौवन नहीं रहता। सबको बूढ़ा होना है। 

कवयित्री को याद है कि जब वह छोटी थी तो माँ के बिना एक पल भी डर जाती थी। वह अपनी मां को हमेशा के लिए खोने के बारे में सोचकर बहुत अधिक भयभीत थी। 

विदाई 

जब कवयित्री एयरपोर्ट पर पहुँची, तो उसने फिर से अपनी माँ की ओर देखा। उसकी माँ का चेहरा पीला पड़ गया था। वह अपनी माँ के चेहरे की तुलना सर्दियों के चाँद से करती है।  सर्दियों का चाँद हमेशा सुस्त होता है। इसी तरह, उम्र बढ़ने के कारण उसकी माँ का चेहरा बेरंग हो गया। 

वह समझ गई थी कि उसकी मां बूढ़ी हो गई है और इस बार शायद वह हमेशा के लिए उससे अलग हो जाएगी। एक बच्चे के रूप में अपनी माँ से अलग होना भी ऐसा ही दर्द था लेकिन इस बार वह स्थायी रूप से अलग हो सकती थी। 

जल्द ही अपनी मां से मिलने की उम्मीद के साथ उन्होंने मुस्कान के साथ विदाई दी। वह अपना दर्द बयां नहीं कर सकती थी, बल्कि मुस्कान से उसे दबा देती थी। उसने एक बार फिर अपनी मां से मिलने की उम्मीद को जिंदा रखा। 

निष्कर्ष 

जीवन और मृत्यु हम में से किसी के द्वारा दूर नहीं किया जा सकता है। हमारे अपनों की मौत हमेशा दर्दनाक होती है। जैसे-जैसे हम उन्हें बूढ़े होते पाते हैं, हमें उनसे अलग होने का डर सताता है।

कविता कुछ ऐसा ही दृश्य प्रस्तुत करती है। यह एक बेटी की इस बात को सीखने की भावना को दर्शाता है कि उसकी माँ बूढ़ी हो रही है। 

अंत में, हम पाते हैं कि कवयित्री एक बार फिर अपनी माँ से मिलने की आशा के साथ खुद को सांत्वना दे रही है। इस प्रकार कविता का एक सकारात्मक अंत होता है।

Also read :

A House is not a home summary in Hindi and English

Think and Grow rich summary in Hindi

My Mother At Sixty Six poem Summary (English)

My Mother At Sixty Six Summary

Hello beautiful people, this article will provide you with a detailed summary of the poem, “My mother at sixty-six” by Kamala Das. 

The Poetess -Kamala Das

She was born on 31st march, 1934.She was a Malayalam author and an English poet. Kamala mainly wrote about her personal life. Her works are filled with intense emotions. Poetess’ writings boldly express the inner feelings.  

Introduction

The poem “My mother at sixty-six”, portrays the mother-daughter relationship. The poetess here explains the distress in her in the thought of losing her mother. She also shows the contraction of human life in the poem. When the poetess bids farewell to her mother she hides all her pain within her. 

The fragile face 

The poetess gives a vivid description of her mother’s face. When she was returning from her parents’ house at Cochin, her mother accompanied her in the car. 

She looked at her mother’s face and observed carefully. The old lady was taking a nap with her mouth open. Her face seemed to resemble a corpse and was full of pain. 

Kamala had understood the fact that her mother had grown old. She realized that aging can take her mother away from her. Kamala Das realized that her mother was no one out of the cycle of life and death. She was saddened with the thought of losing her permanently. 

Kamala felt depressed looking at the pale and cold face of her mother.  

The Contradictory Image

Poetess looked out the window to change her mind. She found the young trees as if running with lots of energy. The merry children were coming out of their houses to play. 

These things around her indicated a positivity in contrast to her mother’s face. The young trees and children signify young energy. In contrast to her mother’s appearance, the outside world is much more colorful. 

Kamala realises that youth do not remain forever. Everyone has to grow old. 

Poetess remembers that when she was a kid, she would get scared even a moment without her mother. She was much more horrified thinking about losing her mother permanently. 

Farewell 

When the poetess reached the airport, she looked at her mother again. Her mother’s face was pale. She compares her mother’s face with the late winter moon. The late winter moon is always dull and gloomy. In the same way, her mother’s face due to ageing turned out colourless and toned down. 

She understood that her mother has turned old and this time maybe she would be parted from her forever. As a child parting from her mother was similar pain but this time she could be permanently parted. 

With the hope to meet her mother soon she bid her farewell with a smile. She could not express her pain, instead she suppressed it with a smile. She kept her hope alive to meet her mother once again. 

Conclusion 

Life and death cannot be overcome by any of us. Death of our near and dear ones is always painful. As we find them growing old, we bear the fear of being separated from them.

The poem gives a similar view. It shows the feeling of a daughter learning the fact that her mother is growing old. In the end, we find the poetess comforting herself with the hope to meet her mother once again. Thus giving a positive ending to the poem. 

My mother at sixty six MCQ

What does the poet smile in the poem my mother at sixty six show ?

=> The Poetess’s smile depicts hope to meet her mother once again. It also shows that she is unable to express her sadness in front of her mother.

What is the distinctive feature of the poem my mother at sixty six ?

=> The poem describes The natural rule of aging. The separation from our near and dear ones by death. This poem shows the relationship between a mother and daughter, how a daughter feel scared to loose her mother forever.

What is the central idea of the poem My mother at sixty six ?

=> Death separates us from our near ones, Their aging terrifies us. Here in this poem we found our poetess scared to loose her mother permanently.

Also read :

The Power of your subconscious mind summary in Hindi

A letter to God summary in Hindi

2 thoughts on “My Mother At Sixty Six Summary In Hindi And English”

  1. Pingback: Life Story Of Nabi Muhammad in Hindi - Mr Shekhar

  2. Pingback: Sweetest Love I Do Not Goe Summary In Hindi - Mr Shekhar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *