Home » Listening Skills In Hindi | श्रवण कौशल क्या है

Listening Skills In Hindi | श्रवण कौशल क्या है

Listening Skills In Hindi

आज की इस डिजिटल जमाने में भी आपको श्रवण कौशल क्या है ये पता होना चाहिए। चाहे कोई भी मनुस्य हो, उसकी communication skills को उन्नत करने के लिए effective listening skills in Hindi को समझना अनिबर्य है ।

इंटरनेट में कई सारे इसके ऊपर कोर्स भी अवेलेबल है। तो आप सोच ही सकते है की कितना ज्यादा महत्वपूर्ण है । मैंने communication skill के ऊपर कई सारे सेमिनार और वेबिनार किया।

वहा जो भी मेंटर रहता है, वो  communication skill improve करने के लिए बहुत सारे कार्य और कदम को अनुसरण करने के लिए बोलते है । उन सब का सारांश लेकर मैं यहाँ आपको बताऊंगा की Listening Skills In Hindi क्या है और इसे किस तरह से आप सिख सकते है ।

आसान शब्दों में श्रबन कौशल का अर्थ है “सुनने की कला”। जिस तरह एक स्टूडेंट या फिर एम्प्लोयी के लिए पढ़ना, सीखना जरुरी है। ठीक उसी तरह जब कोई उसके सामने कोई चीज़ का बर्णन कर रहा हो, तब उसको ध्यान से सुनना भी महत्वपूर्ण है ।

श्रवण कौशल क्या है ? What is listening skills in Hindi ?

श्रबण कौशल को समझने से पहले चलिए समझते है श्रवण क्या है और ये कैसे काम करता है । श्रवण एक बार्ता है जो हमारे कानो से दिमाग तक पहुँचता है । उदहारण के स्वरुप : रास्ते में ट्रैफिक की आवाज़, घर में पंखा की आवाज़, ट्रैन की आवाज़ – ये सब हमारे कानो से दिमाग तक पहुँचता है ।

इसी चीज़ को श्रवण कहलाया जाता है । यहाँ आवाज़ को हम बार्ता बोल रहे है । अगर ये कानो से दिमाग तक ना पहुंचे, तो इसे श्रवण नहीं कहलाया जायेगा ।

listening skills in Hindi : definition

सोच लो आप एक कमरे में बैठे हो और कमरे में बहुत सारे आवाज़ हो रहा हो । घर में मम्मी चिल्ला रही है , बहार कोई पूजा की गाना बज रहा है, कमरे में पंखा चल रहा है – ऐसी बहुत सारी चीज़ो की आवाज़ आपके कानो में आ रही है ।

अब अगर उसके वाबजूद आप टीवी में ध्यान से न्यूज़ सुन रहे हो, और रिपोर्टर की सारी बातो को ध्यान से सुन रहे हो तब उस कौशल को listening skill कहा जाता है ।

यानि की जब बहत सारी बातें हो रही है, उसके वाबजूद आप कोई एक बात को या फिर किसी एक इंसान की बात को ध्यान से सुनते है और समझते है तब उसे listening skill कहा जाता है ।

Advantages of Good listening skills in Hindi

  • किसी भी समस्या का हाल निकालने के लिए अच्छी श्रवण कौशल की जरुरत होती है ।
  • हमारे ज़िन्दगी में कई ऐसे बिबादो का सामना करना पढता है जो हम सुलझा नहीं सकते है । पर एक अच्छा श्रोता बिबादो का अच्छे से अच्छा सुलझाओ निकाल लेता है ।
  • आपके पारिवारिक और कर्म जीवन के लोगो के साथ संपर्क और अच्छा करता है ।

Listening Skills In Hindi

How to improve listening skills ? श्रवण कौशल को कैसे सीखे और उन्नत करें ?

जैसा की मैंने पहले ही वादा किया जो भी चीज़ एक पेड कोर्स में सिखाया जाता है, वो सब मैं आपको इस आर्टिकल पर फ्री में दूंगा । निचे मैं आपको कुछ कदम बताने जा रहा हु, उस सब को ध्यान से पढ़े और आजमाएं ।

इसको फॉलो करने के बाद गरंटी है आपकी श्रवण कौशल उन्नत होगी। और आप दुसरो को भी ये चीज़ के बारे में बता पाएंगे।

1. स्पीकर को ध्यान दे :

अच्छी श्रोता बनने के लिए आपको इधर उधर से नज़रे हटाना पड़ेगा। आपके सामने जो बोल रहा है उसका सामना करो। वो जो भी बातो को बर्णन करना चाहता है उसे ध्यान से सुनो।

2. बक्ता की आँख में आँख बरकरार रखे :

ये भी सुनिश्चित करना अनिबर्य है की आप बक्ता की आँख में आंक डालके रक्खे। वेस्टर्न कल्चर में “eye contact ” एक बहत ही महत्वपूर्ण तकनीक है। हमारे भारत में कई लोग शर्मीली भाबनाओ की वजे से आँखों में आंख डालकर बात नहीं करते, और सुनते भी नहीं । ये आपको ध्यान में रखना होगा।

3. बातो को खुले दिमाग से सुनो और सोचो :

जब आप बक्ता की बातें सुन रहे हो तब आपके दिमाग में कोई दूसरी बातें नहीं चलनी चाहिए । साथ ही साथ आपको कभी भी बक्ता को जज नहीं करना चाहिए । हां , अगर आपको उसकी बातें अच्छा नहीं लग रहा तब बातें ख़तम होने तक इंतज़ार करें। जब वो उसकी पूरी बातें ख़तम कर दे, उसके बाद आप अपनी राय बोल सकते है ।

स्पीकर को बातों के बीच में रोकना या टोकना उसके प्रति अनादर के एक संकेत दिलाता है, ऐसी छोटी छोटी बातों का ध्यान रक्खे।

4. पुराने बातों को बक्ता को याद दिलाये :

स्पीकर / बक्ता जो कोई भी हो, अगर आप उससे पहले कभी भी बात किये हो, तो उस आलोचना से एक दो बात उठाकर उसको याद दिलाएं। ये चीज़ उसके मन में एक अच्छा संकेत दिलाएगा की आप उसकी बात को ध्यान से सुनते है ।

जब भी कोई पुराने बातों को या आलोचना से कोई भी बात उठाकर सामने लाये तब हम सब को अच्छा लगता है। हमें ये प्रतीत होता है की हमने जो बोलै था वो उसने अच्छे से सुना ।

5. बक्ता से प्रश्न भी पूछे :

जब कोई श्रोता बक्ता की आलोचना से मिलता जुलता प्रश्न पूछते है, तब बक्ता को भी आसानी होती है । वह ये समझ पता है की आलोचना किस तरफ लेके जाना चाहिए ।

इसलिए कभी भी आपके मन में कोई भी मिलता जुलता प्रश्न आये, तब बक्ता को पूछना ना भूले। पर ध्यान रखे, वो उसकी बातें ख़तम होने के बाद पूछना सठिक रहेगा।

6. अपने चेहरे पर हलकी मुस्कान रखे :

ये बहुत महत्वपूर्ण एक कला है । आपको ये समझना होगा की हलकी मुस्कान के साथ बातों को सुनना बक्ता के लिए भी एक सकारात्मक संकेत है । इसका मतलब है की आपको उसकी बातें अच्छी लग रही है और आप और ज्यादा तह्या का इंतज़ार कर रहे है ।

7. सिर्फ सुनना काफी नहीं है :

सुनने के साथ साथ बक्ता की मनोभाव को समझना और उनकी बातें ध्यान से सुनना और याद रखना भी महत्वपूर्ण है । सिर्फ सुनना मतलब कानो से सुनना, जब आप ध्यान से सुनते हो इसका मतलब कान के साथ दिमाग भी जुड़ जाता है ।

एक अच्छे श्रोता की गुणबत्ता : Quality of a good listener

  1. बक्ता के सामने वो पूरी तरह मजूद होता है ।
  2. अच्छे श्रोता सिर्फ जवाब देने के लिए नहीं सुनते , उसको शिक्षा भी चाहिए इसीलिए वो सुनते है ।
  3. उसी पल से, सुनने के दुरंत बाद वो प्रतिक्रिया लेते है ।
  4. श्रोता कोई बेकार उद्देस्य से नहीं सुनते है ।
  5. बातों के बीच बीच में वह बाधा नहीं डालते ।
  6. बातचीत के बाद वह अनुवर्ती प्रश्न जरूर पूछते है ।

एक बुरे श्रोता की मनोवाब : Characteristics of a bad listener

  1. बक्ता को बातो के बीच में टोकते है ।
  2. दिमाग में कोई और बातें चल रहा होता है ।
  3. आंख से आंख मिलाकर कभी नहीं सुनते ।
  4. निष्कर्ष में पहुंचने में जल्दी करते है ।
  5. प्रश्न नहीं पूछते , और बक्ता को जवाब भी नहीं देते ।
  6. कुछ अबांछित सलाह देने की कोशिश करता है ।
  7. ज्यादा बातें करता है ।

A few tips to improve listening skills in Hindi :

  • सुनते समय अपना पूरा ध्यान बक्ता की तरफ लाये।
  • बक्ता को उसकी सब्जेक्ट से दूसरे सब्जेक्ट पर जाने ना दे ।
  • अपने दिमाग को इधर उधर भटकने से रोके ।
  • हलकी मुस्कान से साथ अपना सर जरूर हिलाये ।
  • चुपचाप ना सुने, बीच बीच में हां , ना जरूर कहे ।
  • अगर आपके मन में कुछ भी प्रश्न है तो बक्ता को पहले ख़तम करने का अबसर दे , फिर प्रश्न पूछे ।

Conclusion : निष्कर्ष

मेरे प्यारे भाइयो और बहनो आशा करता हु, ये listening skills in Hindi का लेख आपको अच्छा लगा हो। और आपको यहाँ अगर थोड़ा सा भी सीखने को मिला तो मैं आप सभी से बिनती कर रहा हु, इस पोस्ट को आपने चाहने वाले और दोस्तों के साथ शेयर करे ।

अगर आपके मन में listening skill को लेकर कुछ भी प्रश्न है, बेझिझक आप कमेंट बॉक्स में लिख सकते है। मैं कोशिश करूँगा हर एक का रिप्लाई करने का ।

यहाँ आने के लिए बहुत धन्यबाद !

और पढ़े :

320+ Ling Badlo shabd list in Hindi

15 Best Online Padhai App (Ye 15 App Best Hai Padhai ke Liye)

Online Padhai Kaise Kare | ऑनलाइन पढाई कैसे करते है

A Letter To God Summary In Hindi

The Power Of Your Subconscious Mind Summary In Hindi | Apke avchetan man ki shakti

Poem On Rajput In Hindi | राजपूत कविता

Tags:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *