Life Story Of Nabi Muhammad in Hindi

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट पर आपको Life Story Of Nabi Muhammad in Hindi  के बारे में पाता चलेगा। लोगो का कहना है सिर्फ वही मुस्लमान पीड़ित होते है जिसे पवित्र कुरान का अर्थ नहीं पाता होता।

कुरान के अनुसार, भक्ति करते समय हजरत मुहम्मद के जीवन में तबाही मची थी। कुरान सुनाने वाला अल्लाह पैगंबर मुहम्मद से कह रहा है कि वह एक बाखबर से पूछें जो सच्चे अल्लाह से पूरी तरह परिचित हो!

Prophet Muhammad अपनी माँ और दादाजी के पास बड़ा हुआ था। माँ का नाम था अमीना । हजरत मुहम्मद के 6 साल की उम्र में ही उनके माता का देहांत हो गया। फिर दादाजी के देहांत होने के बाद मुहम्मद अनाथ हो गया था ।

कहा जाता है कि जब हजरत मोहम्मद जी ‘सतलोक’ देखकर वापस आए तो उन्होंने तीन बातें बताईं- रोजा, बंग और नमाज। यह बिस्मिल के लिए अल्लाह का आदेश नहीं था। यह साबित करता है कि ईश्वर हज़रत मोहम्मद के रूप में है। जी अल्लाहु अकबर से मिले हैं।

Life Story Of Nabi Muhammad

हज़रत मुहम्मद एक गुफा में ध्यान किया करते थे। एक सुबह गेब्रियल नाम का एक फरिश्ता आया और हज़रत मुहम्मद को रेशम का एक टुकड़ा पढ़ने के लिए मजबूर किया। Prophet Muhammad ने उत्तर दिया कि वे नहीं जानते कि कैसे पढ़ना है।

उसने मुहम्मद का गला दबा दिया। मुहम्मद को शरीर में अकड़न महसूस हुई, फिर उन्होंने बलपूर्वक उस अंश को फिर से पढ़ने के लिए कहा। मुहम्मद डर से कांप रहा था। अचानक एक आवाज आई, “मुहम्मद, तुम अल्लाह के रसूल हो! और मैं गेब्रियल हूं। – सल्लल्लाहु अलैहि वसलामी द्वारा “हज़रत मुहम्मद की जीवनी” पुस्तक में उल्लेख किया गया है ।

जब पैगंबर मुहम्मद 25 वर्ष के थे, तब उनका विवाह खदीजा नाम की एक 40 वर्षीय विधवा महिला से हुआ था। उसने हजरत मुहम्मद के 3 बेटे और 4 बेटियों को जन्म दिया ।

तो दोस्तों ये थी आज की कुछ बेहतरीन बातें Life Story Of Nabi Muhammad  के बारे में । उम्मीद करता हु आप इसे शेयर करेंगे ।

Also read : My mother at sixty six summary in Hindi

1 thought on “Life Story Of Nabi Muhammad in Hindi”

Leave a Comment