Home » A Triumph Of Surgery Summary (Hindi & English) Class10

A Triumph Of Surgery Summary (Hindi & English) Class10

A Triumph Of Surgery Summary

नमस्कार मेरे प्यारे दोस्तों, इस लेख में मैं आपको जेम्स हेरियट द्वारा लिखित कहानी “A Triumph Of Surgery” का सारांश प्रदान करने जा रहा हूं। 

जेम्स हेरियट

जेम्स अल्फ्रेड वाइट एक पशु चिकित्सा सर्जन और लेखक थे। उन्होंने लगभग 50 वर्षों तक अभ्यास किया। उनके लेखन भी जानवरों और उनके मालिकों पर आधारित थे। वह अपने कलम नाम जेम्स हेर्रियत में अच्छी तरह से जाना जाता था 

Story Name A Triumph of Surgery
Class 10
Author James Herriot

A Triumph Of Surgery Summary in Hindi

“ट्रिकी” के साथ मुलाक़ात

 

कहानी तब शुरू होती है जब लेखक ने सड़क पर अपनी मालकिन के साथ “ट्रिकी” नामक कुत्ते को देखा। लेखक उसे इतना मोटा देखकर हैरान रह गया। वह एक फूले हुए सॉसेज की तरह लग रहा था जिसके हर कोने में एक पैर था। उसकी आँखें लाल और नम थीं और उसकी जीभ उसके मुँह से बाहर निकली हुई थी। 

खाना जो “ट्रिकी” को दिया गया था

उसकी मालकिन, श्रीमती पम्फ्रे ने उसे हमेशा आलसी और थका हुआ पाया। उसने सोचा कि उसको अतिरिक्त खाना देने से उसका शक्ति बढ़ सकता है। इसलिए, उसने उसे कुछ माल्ट और कॉड लिवर ऑयल दिया। उसने रात को उसे सुलाने के लिए हॉर्लिक्स का कटोरा भी दिया।

उसने उसे क्रीम केक और चॉकलेट जैसी मिठाइयाँ भी दीं क्योंकि वह उनके शौकीन थे। 

“ट्रिकी” के लिए हालात बिगड़ गए

जब लेखक का “ट्रिकी” से सामना हुआ तो उसने अपनी मालकिन से कुछ काम करने को कहा। उसने उसे उसके लिए सख्त आहार का पालन करने के लिए कहा। उसने उसे बहुत सारे व्यायाम करने के लिए भी कहा। श्रीमती पम्फ्रे बहुत आज्ञाकारी लग रही थी जैसे कि वह सब कुछ सुन लेंगी जैसा कहा गया है। 

शायद उसने नहीं किया लेकिन ट्रिक की हालत बिगड़ गई। उसने अपने पसंदीदा व्यंजन खाने से इनकार कर दिया और इसके अलावा उसे उल्टी होने लगी। वह पूरे दिन गलीचे पर लेटे और हांफते हुए लग रहा था। वह दिन भर कुछ भी करने से कतराता था। 

लेखक ने ट्रिकी के  मालकिन से कहा कि उसकी जान बचाने का एकमात्र तरीका उसे अस्पताल में भर्ती कराना था। वह एक पशु-चिकित्सक था इसलिए जानता था कि कुत्ते को बचाने के लिए उसे क्या करना चाहिए। इस प्रकार, वह उसे अपनी कार में उठाया और अस्पताल ले गया। 

“ट्रिकी” के घर की स्थिति

चूंकि कुत्ते को एक शानदार जीवन शैली दी गई थी, इसलिए उसकी सभी नौकरानियां उससे गहराई से जुड़ी हुई थीं। श्रीमती पम्फ्रे ने माना कि कुत्ता निश्चित रूप से मर जाएगा और आँसू में बह गया। 

उन सभी ने उसका दिन का बिस्तर, रात का बिस्तर, पसंदीदा कुशन, खिलौने और रबर के छल्ले, नाश्ते का कटोरा, दोपहर के भोजन का कटोरा, रात के खाने का कटोरा तैयार किया। लेखक अपने साथ कुछ भी नहीं ले गया, जिससे उन्हें बहुत निराशा हुई। 

और पढ़े: My Grandmother’s House Summary In Hindi & English (Full analysis)

सर्जरी में

जब लेखक उसे सर्जरी के लिए ले गया तो ट्रिकी कार्पेट पर बेसुध पड़ा था। अन्य कुत्तों ने उसे सूँघा और उसे एक अरुचिकर वस्तु समझा और उसे नज़र अंदाज़ कर दिया।

लेखक ने उसके बिस्तर को एक गर्म ढीले डिब्बे में बनाया। दो दिनों तक उसने उसे बिना भोजन के पीने के लिए बहुत सारा पानी दिया। दूसरे दिन उसने आस-पास देखना शुरू किया। 

तीसरे दिन, यार्ड में अन्य कुत्तों को सुनकर ट्रिकी धीरे से रोया। जैसे ही लेखक ने दरवाजा खोला ट्रिकी उनके द्वारा निरीक्षण किए जाने के बाद उनके साथ शामिल हो गया। बाद में जब दूसरे कुत्तों ने खाना खाया तो ट्रिकी ने उन्हें खाना खाते हुए देखा और ख़तम होने के बाद बस उनके कटोरे चाटे।

अगले दिन उसके लिए एक अतिरिक्त कटोरा रखा गया। उसने खुद को कटोरे की ओर धकेला और अपने भोजन का आनंद लिया। इसके बाद वह समय के साथ ठीक होने लगे। उन्हें किसी चिकित्सा उपचार की आवश्यकता नहीं थी, यह उनकी जीवन शैली थी जो बदल गई थी। अतिरिक्त भोजन के साथ उनके भव्य जीवन ने उन्हें उस स्थिति तक पहुँचाया।

उसे अपने भोजन के लिए अन्य कुत्तों से लड़ना पड़ा और रात में चूहों का शिकार करना पड़ा। उन्होंने अपनी नई जीवन शैली का आनंद लिया। वह उस गिरोह का नया सदस्य था जिसे कुचला गया।  

श्रीमती पम्फ्रे बहुत चिंतित थीं इसलिए उन्होंने लेखक को हर दिन लगभग एक दर्जन अंडे बुलाया। जब उसने सुना कि वह तेजी से ठीक हो रहा है। 

ट्रिकी के मजबूत होने के लिए उसने हर बार दो दर्जन अंडे भेजना शुरू किया। लेखक और उसके साथियों ने नाश्ते के लिए उन अंडों को खाना शुरू कर दिया। बाद में उसने उसका खून बढ़ाने के लिए शराब भेजना शुरू कर दिया। इस बार लेखक के परिवार ने दोपहर के भोजन के साथ उनका आनंद लिया। अंत में, ट्रिकी के लिए ब्रांडी आ गई और उन्होंने इसका इस्तेमाल आग के पास अपने दिन को शानदार ढंग से समाप्त करने के लिए किया। 

घर पर वापस

यद्यपि ट्रिकी को लेखक के पास रखना शानदार था, वह जानता था कि श्रीमती पम्फ्रे अपने पालतू जानवर को याद करने के लिए व्यथित थीं। उसने उसे फोन किया और उसे ट्रिकी लेने के लिए कहा। 

तीस मिनट के भीतर वह मौके पर पहुंच गई। वह कांप उठी और उसने लेखक से पूछा कि क्या ट्रिकी ठीक है या नहीं। लेखक ने उसे आश्वासन दिया कि वह ठीक है और उसे ट्रिकी लाने के लिए प्रतीक्षा करने के लिए कहा। 

ट्रिकी ने एक मांसल-टोंड जानवर की ओर रुख किया था जो सुंदर लग रहा था। वह अन्य कुत्तो के साथ अच्छी तरह से रह रहा था। वह अपनी छाती को जमीन से छूकर एक अच्छी डिग्री तक बढ़ा सकता था।

जैसे ही उसने अपनी मालकिन को देखा वह लेखक की गोद से कूद कर उसकी गोद में आ गया। वह बहुत खुश हुआ और उसे चाटा और उस पर भौंकने लगा। 

वे वापस लौट आए और जैसे ही कार आगे बढ़ी श्रीमती पॉम्फ्रे खिड़की से बाहर देखा और लेखक को धन्यवाद दिया और इसे “A triumph of surgery” कहा।

निष्कर्ष 

कहानी दर्शाती है कि जीवन शैली हमारे स्वास्थ्य को बहुत प्रभावित कर सकती है। कुत्ते की जीवनशैली में एक साधारण बदलाव ने उसे आसानी से ठीक कर दिया। कहानी हमें यह संदेश भी देती है कि हमें लालच पर काबू  पाना चाहिए क्योंकि बढ़ता लालच जबरदस्त नुकसान पहुंचा सकता है।

A Triumph Of Surgery Summary in English

 

Encounter with “Tricki”

The story begins when the author saw a dog named “Tricki” with his mistress on the street. The author was shocked to find him grow so much fat. He looked like a bloated sausage with a leg in each corner. His eyes were red and moist and his tongue hung out his mouth. 

Food that was given to “Tricki”

His Mistress, Mrs. Pumphrey, found him lazy and tired always. She thought that giving him extra food might boost him up. So, she gave him some malt and cod liver oil. She also gave him a bowl of Horlicks at night to make him sleep.

She even gave him sweets like cream cakes and chocolates as he was fond of them.

Conditions deteriorated for “Tricki”

When the author had an encounter with “Tricki” he asked his mistress to do a few things. He told her to follow a strict diet for him. He also asked her to make him do a lot of exercises.     Mrs. Pumphrey seemed very obedient as if she would execute everything as said. 

Maybe she did maybe not but Trick’s conditions deteriorated. He refused to have his favorite dishes and besides he started vomiting. Tricki seemed to lay on the rug all day and pant. He was reluctant to do anything all day. 

The author told Trick’s mistress that the only way to save his life was to admit him to the hospital. He was a veterinary surgeon thus knew that what he must do to save the dog. Thus, he took him in his car and carried him to the hospital. 

Condition at “Tricki’s” house

As the dog was given a lavish lifestyle all his housemaids were deeply attached to him. Mrs. Pumphrey assumed that the dog will surely die and broke into tears. 

They all made ready his day bed, night bed, favorite cushions, toys and rubber rings, breakfast bowl, lunch bowl, supper bowl. The author carried nothing with him, which disheartened them a lot. 

At the surgery

When the author took him to the surgery Tricky lay motionless on the carpet. The other dogs sniffed him and found him an uninteresting object and ignored him. 

The author made his bed in a warm loose box. For two days he just gave him plenty of water to drink with no food. On the second day, he started to look around the surrounding. 

On the third day, Tricky softly cried on hearing other dogs in the yard. As the author opened the door Tricky joined them after being inspected by them. Later when the other dogs had their meals Tricky watched them having food and after they finished just licked their bowls.

The next day an extra bowl was kept for him. He pushed himself towards the bowl and enjoyed his meal. After this, he started to recover with time. He needed no medical treatment it was his lifestyle that was changed. His lavish life with extra food made him reach that condition.

He had to fight with the other dogs for his food and hunt rats night. Tricki enjoyed his new lifestyle. He was the new member of the gang who was bowled over, tramped on, and squashed.  

Mrs. Pumphrey was very much worried thus called the author about a dozen times each day. When she heard that he was recovering fast. 

She started to send two dozen eggs each time for Tricki to grow strong. The author and his partners started to have those eggs for breakfast. Later she started sending wine to enrich his blood. This time author’s household enjoyed them with lunch. Finally, brandy came for Tricky and they used it to finish their day luxuriously near the fire. 

Back to Home

Although it was luxurious to keep Tricky with the author, he knew that Mrs.Pumphrey was distressed to miss her pet. He made her a call and asked her to collect Tricki. 

Within thirty minutes she arrived at the place. She was trembled and asked the author whether Tricki was fine or not. The author assured her that he was fine and told her to wait as he brings Tricki. 

Tricki had turned to a muscle-toned animal who looked graceful. He was keeping up well with the pack. He could stretch up a good degree with his chest touching the ground.

As soon as he saw his mistress he jumped from the author’s lap to her lap. Tricky licked her and barked at her. 

They returned back and as the car moved she looked out of the window and thanked the author and called it “a triumph of surgery.”

Conclusion 

The story reflects that lifestyle can affect our health a lot. A simple change in the lifestyle of the Dog made him recover easily. The story also gives us the message that we must overcome greed as the rising greed can cause tremendous harm.

Also read:

Sweetest Love I Do Not Goe Summary In Hindi

My Mother At Sixty Six Summary In Hindi And English

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *